google.com, pub-4651590890763792, DIRECT, f08c47fec0942fa0

20 साल से ईपीएस पेंशन में वृद्धि नहीं, 231th CBT मीटिंग में हो फैसला – डोंगरे

दिनांक 29/7/2022 ,और 30/7/2022 को दो दिन होने वाले सीबीटी की 231वीं बैठक (231th CBT Meeting) में ईपीएस 95 पेंशनर्स की मांगो को मंजूर किया जाये, इसलिए National working president EPS 1995 के भीमराव डोंगरे ने सीसीटी सदस्य श्री हरभजनसिंग सीध्दू को पत्र लिखकर, इस सीबीटी की बैठक में उचित निर्णय की मांग की है।

सीसीटी सदस्य श्री हरभजनसिंग सीध्दू को लिखा पत्र।

प्रति,

माननीय श्री हरभजनसिंग सीध्दू साहब ।
सी बी टी मेंमबर EPFO नई दिल्ली ।

विषय – दिनांक 29/7/2022 ,और 30/7/2022 को दो दिन होने वाले बेंगलूर सी बी टी मिटिंग (231th CBT) मे “मिनीमम पेंशन ” के बारें में पुरजोर चर्चा करके न्याय दिलाने हेतू आग्रह ।

महोदय ,
उपरोक्त विषय के संबंध में निवृत कर्मचारी 1995 राष्ट्रीय समन्वय समिति नई दिल्ली। (कॅम्प नागपुर) की और से आपसे अपील करना चाहता हू की पिछले 26 साल से मिनिमम पेन्शन मे एक रूपये की बढोत्री नहीं हुयी।

इस दौरान तकरीबन 2 लाख पेन्शनर मर गये। भाजपा सरकार के कार्यकाल में दो मंत्री बदली हो गये। मा भूपेन्द्रजी यादव साहब कॅबिनेट लेबर मिनिस्टर होने पर काफी उम्मीदें लगाऐ बैठे है। गरीब पेन्शनरो को जीने लायक पेंशन याने कोशियारी कमेटी के तहत महंगाई भत्ता जोड़कर पेन्शन मिले इस संबंध में सी बी टी मिटिंग या संसद हाऊस मे कोई निर्णय नही हो रहा।

इस लिऐ आपसे अपील करना चाहता हू की रूपये 1000/- के निचे की पेंशन लेने वालो की संख्या 28,75,602 लाख है। याने 53’31% यह लोग दोनों मिया बीबी इस महंगाई के जमाने में कैसे जिते होंगे, कितने सारे लोग सड़कपर भिक मागंते है। आप ही इस का अंदाजा लगा सकते है। इसलिये आपसे अनुरोध करता हूँ । की होनेवाली 231th CBT मिटिंग मे पुरजोर चर्चा करे । और हमें न्याय दिलाने में मदत करे।

दिनांक 16/9/2019 के 225 सी बी टी मिटिंग के अनुसार। Pension amount Up to 1000/-

  • Member Pensioners in number -18,68,938
  • Widow / Widower Pensioners in numbers -5, 87,641
  • Other Pensioners in no -4,19,023
  • Total Pensioners in no -28,75,602
  • Pensioners slab wise in % 53, 31% है।

From- Bhimrao Dongre – National working president EPS 1995

यह भी पढ़े :

Add a Comment

Your email address will not be published.